बीईएमएल के निजीकरण के खिलाफ जारी धरने का 6 जनवरी को केरल इकाई में एक साल पूरा हुआ

केईसी संवाददाता की रिपोर्ट

बीईएमएल को उसके मूल्य के एक अंश पर बेचा जा रहा है। बेंगलुरु इकाई के पास 110 एकड़ प्रमुख शहरी भूमि है और मैसूर इकाई के पास 200 एकड़ है। कंपनी का मूल्यांकन करते समय भूमि के मूल्य पर विचार नहीं किया जा रहा है बल्कि एक रणनीतिक रक्षा उपकरण निर्माण कंपनी को शेयर बाजार में अपने शेयरों के मूल्य के आधार पर बेचा जा रहा है।

लाभ कमाने वाली मिनी रत्न सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी में सरकार के 26% शेयरों का विनिवेश करके भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड (बीईएमएल) के निजीकरण के सरकार के कदम के खिलाफ चल रहे विरोध को 6 जनवरी 2022 को एक साल पूरा हुआ। यह पिछले साल 6 जनवरी को शुरू हुआ था। केरल के कांजीकोड में बीईएमएल इकाई के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने बीईएमएल एक्शन काउंसिल बनाकर सरकार के कदम के खिलाफ अपना आंदोलन शुरू किया। परिषद को सीटू, इंटक के साथ-साथ एटक से भी समर्थन प्राप्त हुआ।

केंद्र सरकार ने 2016 में बीईएमएल के निजीकरण की पहल शुरू करी थी। लेकिन राजनीतिक दलों और कर्मचारियों के विरोध ने सरकार को इस कदम को छोड़ने के लिए मजबूर किया। परन्तु, सरकार अब अपनी 54% हिस्सेदारी में से 26% का विनिवेश करने और निजी खरीदार को नियंत्रण सौंपने की योजना पर आगे बढ़ रही है।

बीईएमएल को अच्छा मुनाफा हो रहा है। पिछले साल, BEML ने वैश्विक निविदाओं के माध्यम से ₹10,000 करोड़ से अधिक के ऑर्डर प्राप्त किए। बीईएमएल बैंगलोर, कोलार, मैसूर और कांजीकोड में अपनी चार इकाइयों में भारी सैन्य वाहन, रेल और मेट्रो कोच, और खनन और निर्माण वाहन बनाती है।

कांजीकोड इकाई राज्य सरकार द्वारा पट्टे पर दी गई 375 एकड़ भूमि पर स्थित है। इकाई सेना के वाहन, यात्री रेलवे कोच और मेट्रो कोच बनाती है। इसमें 350 स्थायी कर्मचारी और 150 संविदा कर्मचारी हैं। यह पहले ही 1,500-भारी सैन्य ट्रक, 300 रेलवे कोच और 500-विषम मेट्रो बोगियों का उत्पादन कर चुका है। इकाई की सालाना 500 मेट्रो बोगियों का उत्पादन करने की क्षमता है।

बीईएमएल एक्शन काउंसिल के संयोजक एसबी राजू ने कहा कि कंपनी को उसके मूल्य के एक अंश पर बेचा जा रहा है। बेंगलुरु इकाई के पास 110 एकड़ प्रमुख शहरी भूमि है और मैसूर इकाई के पास 200 एकड़ है। कंपनी का मूल्यांकन करते समय भूमि के मूल्य पर विचार नहीं किया जा रहा है बल्कि एक रणनीतिक रक्षा उपकरण निर्माण कंपनी को शेयर बाजार में अपने शेयरों के मूल्य के आधार पर बेचा जा रहा है।

बीईएमएल कर्मचारी संघ के महासचिव एस गिरीश ने यह भी आरोप लगाया कि सरकार विनिवेश के नाम पर कुछ निजी कंपनियों की मदद करने की कोशिश कर रही है। निजी कंपनियों के कब्जे में विनिवेश की आड़ में करोड़ों रुपये की जमीन आजाएगी।

Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Vivechan
Vivechan
10 months ago

निजीकरण के खिलाफ संघर्ष सराहनीय है । राष्ट्र के कर से बनी मिल्कियत मतलब हमारे पसीने की महक है उसमे । मुनाफाखोरों को क्यों दें ?
अपने जोश को यूं ही बरकरार रखें और संघर्ष जारी रखें।