कोयला श्रमिकों की दयनीय पेंशन शर्म की बात है!

श्री अलवंदर वेणु माधव, उप मुख्य सचिव, सिंगरेनी सेवानिवृत्त कर्मचारी कल्याण संघ द्वारा


5.5 लाख कोयला पेंशनभोगियों में से 1.2 लाख को केवल 350 रुपये प्रति माह की न्यूनतम पेंशन मिल रही है। 1000 रुपये प्रति माह की वृद्धि उन पर लागू होती है और इसमें भी देरी हो रही है।

कोयला श्रमिकों को कोयले का उत्पादन करने के लिए बेहद खतरनाक और असुरक्षित परिस्थितियों में काम करना पड़ता है, जिसका उपयोग करोड़ों भारतीयों के घरों को रोशन करने के लिए किया जाता है। लेकिन यह शर्म की बात है कि उन्हें अपने सेवानिवृत्ति के वर्षों में पेंशन के रूप में इतनी कम राशि मिलती है।

Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments