विशाखापट्टनम स्टील प्लांट के निजीकरण का विरोध करने के लिए रेल कर्मचारी इस्पात श्रमिकों के साथ एकजुटता के लिए सामने आए

कॉम ए. भोलानाथ, डिवीजनल सचिव, एआईएलआरएसए/डव्लूएटी से प्राप्त रिपोर्ट

viz

विशाखापट्टनम स्टील प्लांट के निजीकरण के खिलाफ 200 दिनों के लंबे संघर्ष को पूरा करने पर विशाखापट्टनम स्टील प्लांट के निजीकरण के खिलाफ विशाखापट्टनम के सभी ट्रेड यूनियनों ने आह्वान किया। विशाखापट्टनम के आगनपुडी से बीएचपीवी तक 10 किलोमीटर की दूरी का “मानव हारम” (मानव श्रृंखला) का एक प्रदर्शन कार्यक्रम, जिसमें 10,000 कार्यकर्ता शामिल थे, 29 अगस्त 2021 को आयोजित किया गया था। कार्यक्रम में विभिन्न क्षेत्रों और संगठनों के सभी ट्रेड यूनियनों ने भाग लिया। रेलवे के एआईएलआरएसए के सदस्यों ने सक्रिय रूप से प्रदर्शन किया और मानव श्रृंखला में शामिल हुए।

 

Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
प्रथमेश
प्रथमेश
1 year ago

आज जब सरकार निजीकरण करने की एक के बाद दूसरी योजना लायें जा रही हैं। सार्वजानिक संपत्ति को देशी व विदेशी मुनाफाखोरों पूंजीपतियों के हवाले करने के लिए योजनायें बना रही है अपने अंग्रेजी पुरखों से मिली “तोड़ो ओर राज करो” की नीतियों का इस्तेमाल करके मजदूर वर्ग की एकता तोड़ रही है ऐसे समय पर AILRSA द्वारा उठाया गया यह कदम काबिले तारीफ है ऐसे कदमों से निजीकरण के खिलाफ के मजदूर वर्ग के आन्दोलन को ओर मजबूती मिलेगी AIFAP के घोषवाक्य “एक पर हमला यानि सब पर हमला” का यह एक स्वरुप है में बाकि सभी संघटनो से गुजारिश करूँगा की वे भी दुसरे क्षेत्र के निजीकरण के खिलाफ ऐसी ही आवाज उठाये जैसे हम अपने क्षेत्र के निजीकरण के खिलाफ उठाते है